अग्रविश्व ट्रस्ट - युग की आवश्यकता

सामाजिक आचरण की निरंतर दूषितता के कारण, जगत का बाहरी व आंतरिक सकल वातावरण प्रदूषित हो गया है. जिससे आज सारा संसार प्रकंपित हो रहा है.

संसार के विनाश की ओर बढते हुऐ इस कदम को हमें तुरंत रोकना होगा. इसके लिये वैश्विक संतुलन के प्रयासों की आवश्यकता है. जो कि प्राकृतिक व पौरुषिक उर्जा के संवर्धन सॆ ही संभव है.

सकल ब्रम्हाण्डों की सृष्टीकर्ता आदि महालक्ष्मी की कृपा से जगत की प्राकृतिक व पौरुषिक उर्जा के संवर्धन हेतु ही अग्रविश्व ट्रस्ट ने श्री अग्रसॆन के आदर्शों कॆ अनुरूप प्राकृतिक उर्जा हेतु श्रीपीठ एवं पौरुषिक उर्जा हेतु अग्रविश्व ज्ञानपीठ की स्थापना का संकल्प लिया है.